fundamental physical quantity

भौतिक राशियाँ (physical quantity ) किसी पदार्थ के वे भौतिक गुण(physical Properties)  है जिसका  मापन किया जा सकता है उसे भौतिक राशियाँ (physical quantity) कहते हैं।

जैसे– त्वरण, ऊर्जा, विद्युत ऊर्जा ,लंबाई, द्रव्यमान, क्षेत्रफल, समय, वेग  इत्यादि भौतिक राशियाँ हैं।

भौतिक राशियाँ (physical quantity)

1. दिशा एवं परिमाण के आधार पर

2.मापन/मात्रक के आधार पर

1. दिशा एवं परिमाण के आधार पर

अदिश एवं सदिश राशियाँ (Scalar and Vector Quantities)

भौतिक राशियाँ दो प्रकार की होती है – 

A. अदिश राशियाँ (Scalar Quantities)

B. सदिश राशियाँ (Vector Quantities)

A. अदिश राशियाँ (Scalar Quantities)

वे भौतिक राशियाँ जिनमें केवल परिणाम होता है, दिशा नहीं उन्हें अदिश राशियाँ (scalar quantities) कहते हैं अर्थात् अदिश राशियाँ केवल परिणाम ही होता  हैं दिशा नहीं होता हैं ।

जैसे– आयतन, कार्य, शक्ति, चाल ,लंबाई, दूरी, द्रव्यमान, समय, क्षेत्रफल, आयतन, कार्य, शक्ति, चाल, आवेश, दाब, ताप, विभव इत्यादि।

B. सदिश राशियाँ (Vector Quantities)

सदिश राशियाँ वैसे भौतिक राशियाँ होती हैं जिनमें परिमाण एवं दिशा दोनों होती हैं सदिश या वेक्टर राशियाँ (vector quantities) कहलाती है।

जैसेः– त्वरण, संवेग, बल, भार, विस्थापन, वेग, चुम्बकीय क्षेत्र इत्यादि

(अ) राशि का परिणाम (Magnitude of quantity)

(ब) राशि की दिशा (Direction of quantity)

(स) राशि का मात्रक (Unit of quantity)

Also Read मौलिक अधिकार पर आधारित प्रश्न और उत्तर | Fundamental Rights based mcq quiz

2.  मापन/मात्रक के आधार पर

1. मूल राशियाँ (Fundamental / Base Quantities)

मूल राशियाँ वैसी राशियाँ होती है जो किसी राशियाँ पर निर्भर नही रहता है यह पूर्णतः स्वतंत्र होती है,तथा इन राशियों के मात्रक मूल मात्रक कहलाती है ।

मूल भौतिक राशियां 7 प्रकार की होती है

1. लम्बाई 2. समय 3. ताप 4. द्रव्यमान 5. विधुत धारा 6. ज्योति तीव्रता 7. पदार्थ की मात्रा

 2. व्युत्पन्न राशियाँ (Derived Quantities)

व्युत्पन्न राशि वैसी राशि होती है जो मूल राशियो की सहायता से व्यक्त की जाने वाली राशियाँ व्युत्पन्न राशियाँ कहलाती है । ये राशि स्वतंत्र नही होती है,

उदाहरण :- चाल,क्षेत्रफल,आयतन,कार्य,ऊर्जा इत्यादि

3. पूरक राशियाँ (Supplementary Quantities)

समतल कोण(Plane Angle) तथा घन कोण(Cube Angle) ऐसी दो रशिया है,जो न मूल राशियों की क्ष्रेणी में आती है और न ही व्युत्पन्न की क्ष्रेणी में। अतः इन्हें एक विशिष्ट वर्ग पूरक राशियों के अंतर्गत रखा गया है। 

सदिशों को निरूपित (Representation of Vectors)

सदिशों को निरूपित करने की मुख्यतः दो विधियां हैः-

1. किसी सदिश राशि को उसके संकेत के ऊपर रेखा का तीर (Arrow) लगाकर प्रदर्शित किया जाता है। तीर युक्त सरल रेखा की लंबाई उपयुक्त पैमाने पर सदिश के परिमाण के तुल्य होती है तथा तीर की दिशा सदिश राशि की दिशा को व्यक्त करती है।

2. सदिश राशि को अंग्रेजी के छोटे या बड़े अक्षरों को काला या मोटा लिखकर भी लिखा जाता हैं  

सदिश एवं अदिश राशियों के गुण

(Property of Scalar and Vector Quantities)

(अ) अदिश राशियों के गुण-अदिश राशियों में निम्नलिखित गुण होते है:

1.क्रम विनिमेय नियम (Commutative Law)

अदिश राशियाँ योग एवं गुणा के क्रम-विनिमेय नियम का पालन करती हैं, अर्थात् अदिशों के योग एवं गुणा के समय अन्य क्रम बदलने पर परिणाम अपरिवर्तित रहता है

2.साहचर्य नियम (Associative Law)

अदिश राशियाँ योग एवं गुणा के साहचर्य नियम का पालन करती है, अर्थात् इनका समूह बदलने से परिणाम नहीं बदलता है।

3. अदिश राशियों को जोड़ना, घटाना, गुणा एवं भाग बीजीय राशियों के समान होता है

4. दिशा परिवर्तन करने से अदिश राशियों के मान में कोई परिवर्तन नहीं होता है

(ब) सदिश राशियों के गुण- सदिश राशियों में निम्न गुण होते हैंः

1.क्रम विनिमेय नियम (Commutative Law)

सदिश राशियाँ योग के क्रय विनिमेय नियम का पालन करती हैं।

2.साहचर्य नियम (Associative Law)

योग के साहचर्य नियम से दो से अधिक सदिश राशियों को किसी भी क्रम में जोड़ने पर उनका योगफल सदैव समान प्राप्त होता है। कई सदिशों का योग सदिशों के बहुभुज नियम से होता है।

3.सदिश का अदिश राशि से गुणा (Scalar Product of Two Vectors) – किसी सदिश राशि में एक अदिश राशि का गुणा करने पर एक सदिश राशि प्राप्त होती है।

4. सदिश राशियों में गुणा (Vector Product of Two Vectors) – दो सदिशों का सदिश गुणनफल सदैव एक सदिश राशि होती है।

5. किसी अक्ष के परितः क्रियाशील सदिश को उसके ऊर्ध्वाधर तथा क्षैतिज घटकों में वियोजित किया जा सकता है।

अदिश राशि (Scalar Quantity)सदिश राशि (Vector Quantity)
अदिश राशि में केवल परिमाण होता है, दिशा नहीं।इनमें परिमाण एवं दिशा दोनों होता है।
इनको सामान्य बीजगणित के नियमों द्वारा जोड़ा, घटाया, गुणा या भाग दिया जा सकता है।इनको सामान्य बीजगणित के नियमों के द्वारा जोड़ा, घटाया, गुणा या भाग नहीं दिया जा सकता। ये सदिश बीजगणित के नियमों का पालन करते हैं।
इनको दो या दो से अधिक घटकों में वियोजित नहीं किया जा सकता है।इनको दो या दो से अधिक घटकों में वियोजित किया जा सकता है।
अदिश राशि (Scalar Quantity) और सदिश राशि (Vector Quantity) अंतर

निष्कर्ष Conclusion

दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम सब ने भौतिक राशियाँ (physical quantity) में जाना है बहुत सारे भौतिक राशियाँ (physical quantity) Main Point के बारे में बात किया यदि आपको भौतिक राशियाँ (physical quantity) से जुड़ा आज का पोस्ट पसंद आया हो तो इसे शेयर और कोई त्रुटि रह गया हो तो कमेंट करके जरुर बताये।

ad
Previous articleBlood Relation Quiz in Hindi
Next articleblood relation question and answer Hindi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here